Friday, April 13, 2018

भारत में यहाँ मौज़ूद है भगवान शिव का रहस्य्मयी संसार


भारत में एक ऐसी जगह जहाँ पहाड़ो पर 1 कम 1 करोड़ हिन्दू देवी देवताओ की मुर्तिया बनी है और ऐसे किसने बनाया ये कोई नहीं जानता।  त्रिपुरा की राजधानी अगरतला से 170 किलो मीटर दूर उनाकोटी जो नदी छील और पहाड़ो से घिरी है उनाकोटि एक पहाड़ी इलाका है जो दूर-दूर तक घने जंगलों और दलदली इलाकों से भरा है। उनाकोटि लंबे समय से शोध का बड़ा विषय बना हुआ है, क्योंकि इस तरह जंगल की बीच जहां आसपास कोई बसावट नहीं एक साथ इतनी मूर्तियों का निर्माण कैसे संभव हो पाया।



उनाकोटि में पहाड़ों की चट्टानों पर बनाए गए नक्काशी के शिल्प और पत्थर की मूर्तियां हैं।जिसका आधार भगवान शिव और गणेश जी हैं। 30 फुट ऊंचे शिव की विशालतम छवि खड़ी चट्टान पर उकेरी गई है, जिसे ‘उनाकोटिस्वर काल भैरव’ कहा जाता है। इसके सिर को 10 फीट तक के लंबे बालों के रूप में उकेरा गया है। इसी के पास शेर पर सवार माता देवी दुर्गा का शिल्प चट्टान पर उकेरी हुई है, वहां दूसरी तरफ मकर पर सवार देवी गंगा का शिल्प भी है। यहां नंदी बैल की जमीन पर आधी उकेरे हुए शिल्प भी हैं।जो शिल्पकला के लिहाज से अद्भुत है।


यहां पर भगवान गणेश की तीन सबसे अलग मुर्तिया है  चार-भुजाओं वाले गणेशजी की दुर्लभ नक्काशी के एक तरफ तीन दांत वाले साराभुजा गणेश और चार दांत वाले अष्टभुजा गणेशजी की दो मूर्तियां बनी हुई हैं


आसपास के लोग यहां आकर इन मूर्तियों की पूजा भी करते हैं। यहां हर साल अप्रैल महीने के दौरान अशोकाष्टमी मेले का आयोजन किया जाता है। जिसमें शामिल होने के लिए दूर-दूर से हजारों श्रद्धालु यहां आते हैं। इसके अलाव यहां जनवरी के महीने में एक और छोटे त्योहार का आयोजन किया जाता है।


0 Please Share a Your Opinion.

Post a Comment