728x90 AdSpace

Monday, 22 April 2019

साध्वी प्रज्ञा के साथ कांग्रेस ने किया था जानवर जैसा हाल, जानिए पूरी कहानी





29 सितंबर 2008 को रमजान के दौरान मालेगांव में बम धमके हुए उसमे 7 लोगो की मोत हुई थी।   साध्वी प्रज्ञा जो उस समय हिन्दुओ की आवाज बुलंद करती थी।  नारी शक्ति के रूप में दुर्गा की रूप कहि जाती थी।

मुम्बई पुलिस ने 10 अक्टूबर 2008 को साध्वी प्रज्ञा को सूरत में गिरफ़्तार किया और मुम्बई ले जाया जाता है।  पुलिस के पास कोइ भी बड़ा सबूत नहीं था उस समय 

उसी समय कांग्रेस के बड़े नेताओ ने हिन्दू आतंवाद , भगवा आतंवाद शब्द बोल क्र पुरे हिन्दू समाज को बदनाम किया  उस समय कांग्रेस की सरकार थी और कांग्रेस चाहती थी की साध्वी प्रज्ञा क़बूले की वो बम उन्होंने ने ही फोड़ी थी।

  इससे बाद सुरु हुआ साध्वी पर अत्याचारों का सिलसिला जुल्म की शरुआत की मुम्बई पुलिस के इंस्पेक्टर खानविलकर और उसके सहयोगी आवाड ने! शुरुआत के 24 दिन (13 दिन अवैध हिरासत और 11 दिन का पुलिस रिमांड) साध्वी की मानें तो नर्क से भी भयानक जीवन गुजरा! हमारे देश के कुछ कर्तव्य परायण जांच अधिकारियों द्वारा दर्दनाक पिटाई और बेहद अपमानजनक शब्दों से व चारित्रिक अपमान से भी प्रताड़ित किया जाता था। लेकिन साध्वी अपनी सच्चई पर अडिग खड़ी  रही।  हाँ मैं लिख रहा हूँ साध्वी प्रज्ञा की कहानी! उस साध्वी की कहानी जो 9 वर्षों के कैदी जीवन मे रोजाना ना जाने कितनी बार मरती थी


साध्वी प्रज्ञा अपने ऊपर हुए पुलिसिया जुल्मों सितम की कहानी की आपबीती 

रात दिन पिटाई होती थी, कोई वक्त नही था पिटाई का! एक दिन तो जुल्म की इन्तेहा ही हो गयी ” ऐसा हुआ कि मुझे मारते मारते मेरे फेफड़े की झिल्ली फट गई‎ और मैं बेहोश हो गयी।फिर मुझे 5 दिनों के लिए अस्पताल ले जाया गया।पहले सुश्रुसा अस्पताल जंहा मैं 3 दिन रही। जब होश आया तो देखा कि उनके शरीर से सारा भगवा वस्त्र गायब थे  उसकी जगह उनको एक फ्राक पहनाया गया था।”मुझे वेंटिलेटर और ऑक्सीजन पर रखा गया। इसके बाद मुझे दूसरे अस्पताल में रखा गया!

रीढ़ की हड्डी टूटने की घटना बताते हुए साध्वी ने बताया कि उन्हें पुलिसकर्मी झूले की तरह पटकते थे। जिससे सर जमीन में टकराता था, इसी दौरान उनकी रीढ़ की हड्डी टूट गयी।


उनकी पिटाई की कोई निश्चित जगह नही थी।कभी एक ऑफिस में फिर दूसरे ऑफिस में उन्हें जबरदस्त तरीके से मोटी मोती बेल्टों से पीटा जाता था।
साध्वी की ये बाते सुन लगने लगा कांग्रेस सच में एक हिन्दू विरोधी पार्टी है।

आज तक  साध्वी  प्रज्ञा पर लगे आरोप सिद्ध नहीं हो पाए।  इस 2019 के लोकसभा  में वो बीजेपी से भोपाल की उमीदवार है।  और उनके खिलाफ व्ही नेता है जिन्होंने हिन्दू आतंवाद का नाम बहुत जोरो से लिया था।


साध्वी प्रज्ञा के साथ कांग्रेस ने किया था जानवर जैसा हाल, जानिए पूरी कहानी Reviewed by desi trend on April 22, 2019 Rating: 5 29 सितंबर 2008 को रमजान के दौरान मालेगांव में बम धमके हुए उसमे 7 लोगो की मोत हुई थी।   साध्वी प्रज्ञा जो उस समय हिन्दुओ की आवाज बुलंद करती थ...

No comments: